Alone Shayari – अकेली शायरी

 Alone Shayari – अकेली शायरी

अपनी तन्हाई से तंग आ कर,
बहुत से आईने खरीद लाया हूँ।

जागने का अज़ाब सह-सह कर,
अपने अंदर ही सो गया हूँ मैं।

 

इस सफ़र में नींद ऐसी खो गई,
हम न सोए रात थक कर सो गई।

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *