Humsafar Shayari in Hindi – हमसफ़र शायरी इन हिंदी

बिना हमसफर के कब तलक, कोई मसाफ़तों में लगा रहे, जहाँ कोई किसी से जुदा न हो, मुझे उस राह की तलाश है।   सुन मेरे हमसफ़र, क्या तुझे इतनी सी भी खबर, की तेरी साँसे चलती जिधर,रहूँगा बस वही Read more