Gam Bhari Shayari

 Gam Bhari Shayari

Gam Bhari Shayari : latest collection Gam Bhari Shayari , read new Gam Bhari Shayari in hindi on our website and share with your friends and family to post Gam Bhari Shayari on whatsapp status and other social media, Gam Bhari Shayari, Gam Bhari

हँसते हुए ज़ख्मों को भुलाने लगे हैं हम,
हर दर्द के निशान मिटाने लगे हैं हम,
अब और कोई ज़ुल्म सताएगा क्या भला,
ज़ुल्मों सितम को अब तो सताने लगे हैं हम.

अजीब लगा यूं उनका मुझको छोड़ के जाना,
ना सुना कुछ और कहा भी कुछ नहीं,
आसान नहीं था यूं उनसे जुदा होकर रहना,
फिर जुदा होकर अब कुछ रहा भी नहीं.

वक्त नूर को बेनूर कर देता है,
छोटे से जख्म को नासूर कर देता है,
कौन चाहता है अपनों से दूर होना,
लेकिन वक्त सबको मजबूर कर देता है.

ज़हर देता है कोई, कोई दवा देता है,
जो भी मिलता है मेरा दर्द बढ़ा देता है.

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published.