Hurt Shayari – चोट शायरी

 Hurt Shayari – चोट शायरी

Dekhi Hothho Ki Hansi Zakhm Na Dekhe Dil Ke,
Aap Bhi Auron Ki Tarha Kha Gaye Dhokha Kaise.
देखी होठों की हँसी ज़ख्म न देखे दिल के,
आप भी औरों की तरह खा गए धोखा कैसे।

Bhula Diye The Jo Waqt Ke Bhanwar Mein Humne,
Aaj Dil Ke Wo Puraane Zakhm Tezaab Ho Gaye.
भुला दिए थे जो वक्त के भंवर में हमने,
आज दिल के वो पुराने ज़ख्म तेज़ाब हो गए।

Der To Lagti Hai Us Ko Bharne Mein,
Jis Zakhm Mein Shamil Ho Apno Ki Inayat.
देर तो लगती है उस को भरने में,
जिस ज़ख्म में शामिल हो अपनों की इनायत।

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *