Judai Shayari

 Judai Shayari

Koi Waada Nahi Fir Bhi Intezaar Hai,
Judaai Ke Bawazood Bhi Humein Tujhse Pyar Hai,
Tere Chehre Ki Udaasi De Rahi Hai Gawahi,
Mujh Se Bichhad Kar Tu Bhi BeQakaar Hai.

कोई वादा नहीं फिर भी इंतज़ार है,
जुदाई के बावजूद भी हमें तुझसे प्यार है,
तेरे चेहरे की उदासी दे रही है गवाही,
मुझसे बिछड़ कर तू भी बेकरार है।

Juda Bhi Ho Ke Wo Ek Pal Kabhi Juda Na Hua,
Ye Aur Baat Hai Ke Dekhe Use Zamana Hua.
जुदा भी हो के वो एक पल कभी जुदा न हुआ,
ये और बात है कि देखे उसे ज़माना हुआ।

Wo HumSafar Tha Magar Uss Se HumNawai Na Thi,
Ke Dhoop Chhaaon Ka Aalam Raha Judai Na Thi.
वो हमसफर था मगर उससे हमनवाई न थी,
कि धूप छाँव का आलम रहा जुदाई न थी।

Ye Thheek Hai Nahi Marta Koi Judai Mein,
Khuda Kisi Ko Kisi Se Magar Juda Na Kare
ये ठीक है नहीं मरता कोई जुदाई में,
खुदा किसी को किसी से मगर जुदा न करे।

Related post

Leave a Reply

Your email address will not be published.